ఎక్స్ ఎన్ డబుల్ ఎక్స్ ఎక్స్ వీడియోస్

ओ शेठ तुम्ही नादच केला थेट

ओ शेठ तुम्ही नादच केला थेट, दरअसल हुआ की वो चादर के निचे बस एक पेंटी में ही थी बाकी नंगी पड़ी थी मेरे जगाने से वो हड़बड़ा गयी थी और चादर गयी हट और मैंने उसके मदमस्त कर देने वाले हुस्न को देख लिया था तो सुबह सुबह ही थोड़ी टेंशन हो गयी थी सगाई शाम को थी पर सेठ बड़ा कारोबारी था तो सबको जीमा रहा था शाम तक कमर दुःख गयी पत्तल उठाते उठाते , प्रोग्राम हुआ ख़तम बस अब सगाई का ही कार्यक्रम था जिसमे बस सेठ के कुछ ख़ास मेहमान ही शामिल थे और कुछ लड़के वालो की तरफ से आने वाले थे

ये कहकर उसने बेशर्मी से हँसते हुए पिस्ता की चूची को मसल दिया पिस्ता तड़प उठी और उसी पल मेरे सब्र का बाँध टूट गया आँखों में जैसे लहू उबलने लगा एक हुंकार भरी मैंने और पास खड़े सिपाही को उठा के पटका वो सीधा दरवाजे से टकराया और भदभदा के दरवाजा खुल गया वो- क्यों जब तुझे मेरी इतनी ही पड़ी है तो कर ले ब्याह , मुझे तो किसी न किसी की चूड़ी पहननी है तेरी पहन लेती हु , बोल करेगा मुझसे ब्याह

me- haa bua mehsoos to kar liya per ab ye khazana mera hona chahta dekho mere hath me aate hi kitna khush hai ki hath me hi pinghal raha hai( ye kehte hi maine ek ungli bua ki chut me ghusa di) ओ शेठ तुम्ही नादच केला थेट नीतू ने अपनी आँखें नचाते हुए कहा, कप्तान साहब, सॉरी कुमारजी, शायद आप ख्वाब और असलियत का फर्क नहीं समझते।

úrsula corberó xxx

  1. Chunni—bhabhi, tum kya jano ki isme kitna maza aata hai... ? kaho to tumhe bhi aisa maza chakha du... aaj ki raat... ? hum dono hi akele hain iss room me... ? kya kahti ho... ?
  2. पिस्ता बोली- एक किताब में पढ़ा था की जो प्रेम होता है ना, वो तो आम लोगो में ही होता है बड़े लोगो का क्या उनकी वो जाने , हम तो अपनी बता सकते ना , सेक्सी छोडा छोड़ि वीडियो
  3. चाय का गर्म कप मेरे ऊपर आ पड़ा मेरी पेंट ख़राब हो गयी और गर्म चाय की वजह से थोड़ी तकलीफ होने लगी वो अपनी चुन्नी से मेरी पेंट पर पड़ी चाय को साफ़ करने लगी पर ये तो उसका बहाना था उसकी उंगलिया मेरे लिंग प्रदेश पर फिसलने लगी Ek ke baad ek kayi dhamake huye aur jitne bhi jeep me riha huye mujrim aur vidhayak ke gunde baithe the..sabhi par lok sidhar gaye…..ye dekh kar vidhayak aur vakil to hakke bakke rah gaye….
  4. ओ शेठ तुम्ही नादच केला थेट...Police thane pahuchte hi unhone jail me band mujrimo ki hazamat karni shuru kar di…jo asani se gunah qubul kar leta vo maar khane se bach jata aur jo anakani karta uski gaand me rod garam kar ke ghused dete…darr ke mare sabhi apna apna jurm kar lete. तो फिर उसके नंगे शारीर को एक दूसरी चादर पे लपेटा और छत की तरफ ले आया किस्मत की ही बात थी की ये सब काम बिना किसी की नजर में आये हो रहा था उन दोनों लड़कियो को कमरे में बाँध आया था क्या पता सबको बता दे तो
  5. Sheetal didi ki kasam sunte hi mere badhte kadam ruk gaye….chupchap gadi me baith kar main drive karne laga…jabki maa sisakti rahi. Raj—kyo ka kya matlab didi…sidhi si baat hai….badi bahan apni bur khol kar mootegi aur chota bhai apni bahan ko mootte huye dekhega..simple..

मौसी वाली सेक्सी वीडियो

Raj—are oye madam, kabhi bhul kar bhi uss hitlar ke samne mujhe apna pati vati bolne ki galti mat karna..

Didi ki awaz sunte hi sarika aur bhi jyada darr gayi..usne mere hath se apni panty ko jhapatne ki koshish ki to maine hath piche khich liya…to usne jaldi se darwaja khola aur tezi se bahar bhag gayi…mera durbhagya ki sheetal didi vahi darwaje ke paas hi khadi thi. नीतू से अब यह सब सहा नहीं जा रहा था। नीतू की चूत गीली होती जा रही थी। उसकी चूत में से रिस रहा पानी थमने का नाम नहीं ले रहा था। उसे यह डर था की कहीं उसकी पेंटी भीग कर उसके घाघरे को गीला ना कर दे, जिससे कुमार को नीतू की हालत का पता लग जाए। साथ साथ नीतू को अपनी मर्यादा भी तो सम्हालनी थी।

ओ शेठ तुम्ही नादच केला थेट,Maine jaldi se apna lower uthaya aur vaha se bahar chala gaya…fresh hone ke baad bina fufa ji ke sath market jane laga to tabhi mujhe kuch yaad aaya.

मैं- कुछ नहीं होगा और वैसे भी इस हालात में मैं कुछ नहीं कर सकता हूँ एक काम कर सकते है या तो वापिस उसी छत्री में चलते है अब मंदिर तो दूर रह गया वर्ना वाही पर शरण ले लेते बताओ क्या कहती हो

Malti—aaaahhhhh….aise hi raaj…aur jor jor..chodo..mujhe….aise hi…aaahhhhh..ghused lena.. tera jab dil kare..ghused dena apna lund meri bur ke chhed me...aur khoob hachak hachak ke chod dalna..aaahhhhडॉग और गर्ल की सेक्सी वीडियो

सुबह मैं उठा तो रति बिस्तर पर ही बैठी अखबार पढ़ रही थी उसने मुस्कुरा कर मेरी तरफ देखा और बोली- रात को अच्छी नींद आई फिर उससे छूट कर नीतू ने कुमार को अँगुठे से ठेंगा दिखाया और बोली, इतनी आसानी से तुम्हारे चंगुल में नहीं फँस ने वाली हूँ मैं। तुम फौजी हो तो मैं भी फौजी की बेटी हूँ। हिम्मत है तो पकड़ कर दिखाओ।

मेरी बहन की इज्जत पे हाथ डालेगा तू उठ साले हाथ लगा लगाता क्यों नहीं मैं जैसे पागल ही हो गया था घसीट के ब्लाक की छत पे ले गया और साले को फेक दिया निचे

Pandit—vo dhongi nahi hai bitiya rani..sach me hi maha purush hai..agar aap ko yakin nahi hai to khud hi aa kar dekh lena. Tab to vishwash hoga hi..,ओ शेठ तुम्ही नादच केला थेट ताऊ की आँखों में पानी आ गया और वो बोला- बेटे, ऐसे ही नहीं पीता हु , सब लोग मेरे को नाकारा समझते है और मैं हु भी नाकारा, मुझे ना फौज की नोकरी मिल गयी थी पर मैं छोड़ कर भाग आया , कुछ छोटा मोटा काम धंधा किया पर सब फ़ैल हो गया फिर दारु की लत लग गयी

News