सेक्स फिल्म ओपन सेक्स

सेक्स बीपी बीपी सेक्स

सेक्स बीपी बीपी सेक्स, प्रेम के इस अनोखे प्रेम को देख कर मैं तो मर ही मिटी। मैंने मुस्कुरा कर उनकी ओर देखा। अब वो इतने भोले तो नहीं होंगे कि मेरी आँखों में झलकते हुए प्रेम को ना पढ़ पायें। सुनील भी मेरे बालों को पकड़ कर अपना लौड़ा मेरे मुंह में ठूंस रहा था। फिर सुनील का वीर्य निकल गया और मैंने सारा वीर्य चाट लिया। उधर अनिल के चाटने से मैं भी झड़ चुकी थी। इतनी देर में मुझ पर शराब का मस्ती भरा हल्का नशा चढ़ चुका था।

वरना बाहर किसी से भी चुदवा लुंगी और तेरी फेमिली का नाम बदनाम कर दूंगी ( चाची साहिल के मामाजान की बीबी यानी मामी थी) बारी-बारी उसने दोनों उरोजों को चूसा और फिर मेरे पेट, नाभि और पेडू को चूमता चला गया। अब उसने मेरी पेंटी के अंदर बने उभार के ऊपर मुँह लगा कर सूंघा और फिर उस उभार वाली जगह को अपने मुँह में भर लिया। मेरे सारे शरीर में सिहरन सी दौड़ गई और मुझे लगा मेरी छमिया ने फिर पानी छोड़ दिया।

जैसे ही मैंने मुट्ठी खोली कंडोम नीचे गिर गया। मैं अपनी मुंडी नीचे किये खड़ी रही। मेरा दिल जोर जोर से धड़क रहा था। पता नहीं अब क्या होगा। क्या पता ताऊजी नाराज़ ही ना हो जाएँ। सेक्स बीपी बीपी सेक्स नीतू भाभी मुस्कुरा रही थी. मेरे कान के पास मुँह लाकर फुसफुसाई, अब मज़ा लो …..हाआंन्‍णणन् ……..! अब उनके कमर की रफ़्तार धीमी हुई, फिर रुक सी गयी. मेरे लौदे को उसी तरह चूत में रखे हुए, भाभी मेरा चेहरा सहला रही थी. मैं ने अपने आँखें खोले तो देखा की भाभी की चेहरे पर खुशी की चमक थी.

बहन भाई की चुदाई की वीडियो

  1. मैं अंकल राठौड़ के आगे उनकी जांघों पर सर रख के लेट ग‌ई और उनके लण्ड से खेलने लगी। सिंह अंकल मेरी टांगो की तरफ आकर बैठ गये। मैंने अपनी टांगे सिंह अंकल के आगे खोल दी और अपना सर राठौड़ अंकल के आगे रख दिया।
  2. मैं हैरान हुआ उसे देखता रह गया। मुझे लगा जैसे वो १८ साल की एक अदना सी नौकरानी नहीं ५ किलो आर डी एक्स मेरे सामने पड़ा है। पता नहीं मधु ने इसे चुदाई की पूरी पी एच डी ही करवा दी है। वो मेरा लण्ड चूसे जा रही थी जो अब फ़िर फ़ुफ़कारें मारने लगा था। ग्राहक संरक्षण कायदा 2019
  3. अरे बावले, तुम्हारे प्रेम के आगे ये दर्द भला क्या मायने रखता है। मेरी ओर से ये तो नज़राना ही तुम्हें। तुम बताओ तुम्हें कैसा लग रहा है ? दोनों बहिनों को बातें करते-करते शाम हो आयी। ससुर ने आवाज लगाई, बहू, जरा इधर तो आ। क्या आज खाना नहीं बनाना है? अनीता पास आकर ससुर के कान में फुसफुसाई, जानू आज समझो तुम्हारा काम बन गया। उसी को पटाने में इतनी देर लग गई। आप आज रात को मेरे पलंग पर आकर चुप-चाप लेट जाना, आगे सब मैं सम्हाल लूंगी।
  4. सेक्स बीपी बीपी सेक्स...मेरे लॉडा के जड़ से घिस रहा था. उनके मुँह से एक मज़े की ह्म्म्म निकली और उन्होने धीरे से दो तीन बार अपने दाने को मेरे लंड के जड़ में घिसने लगी. मेरे कान में धीरे से बोली, यह बहुत मज़ा दे रहा है…..अहह अब उनकी चूतड़ आग लगी हुई है मेरे पूरे बादन में. जान जल्दी से बुझा दो.. मेरे साथ वों सब करो न.. मैं उसे बहून में लेते हुए कहा . उस ने मुझ एक किस्स किया.
  5. भाभी सच कहती थी इसमें मानसिक रूप से तैयार होना बहुत ज़रूरी है। अगर मन से इसके लिए स्त्री तैयार है तो भले ही कितना भी मोटा और लंबा क्यों ना हो आराम से अन्दर चला जाएगा। Main pet ke bal let gayee….maine maxi thoda aur kar liya….ab maxi meri hips taka a gayee thee….mera maksad apne baap ko apni fleshy hips dhikhaane ka tha……meri taangein toh ek tarah se poori exposed thee…

తెలుగు sex stories

अरे बाबा मैं सिखा दूंगा तुम चिंता क्यों करती हो ? और फिर सिखाने की फीस भी नहीं लूँगा ? यह तो मुफ्त का सौदा है !

दीदी घबराने से काम नहीं चलेगा , हमें ठन्डे दिमाग से इस समस्या का हल ढूँढना होगा मैंने दीदी को समझाते हुए कहा मैं तो दासी बनकर भी रह लूंगी उनके पास पर बाबू एक ना एक दिन तो जाना ही होगा ना। मुझे इतने बड़े सपने ना दिखाओ मैं मधुर दीदी के साथ धोखा नहीं कर सकती उनके हम पर बहुत उपकार हैं। वो तो मुझे अपनी छोटी बहन ही मानती हैं। वह आपसे भी बहुत प्रेम करती हैं। बहुत चाहती हैं वो आपको !

सेक्स बीपी बीपी सेक्स,अरे तुम्हारे जन्मदिन की और कौन सी ? तुमने मुझे अपने जन्मदिन पर तो बुलाया ही नहीं अब क्या मिठाई भी नहीं खिलाओगी ? मैंने उलाहना दिया तो वो बोली ओह…. अरे……ते……..ओह……सारु ………तो …….काले खवदावी देवा (ओह… अरे… वो… ओह… अच्छा… वो… चलो कल खिला दूंगी)

मैंने मन में सोचा ‘अपना डाल दो ना … इन अमृत कलशों में भरा खराब हो रहा है ! पर मैंने कहा इट इज ओ के। कोई बात नहीं !

Uski gori-2 janghe aisi thi ki kisi ka bhi lund use chodne ko khada ho jaye. Dheere-2 uski jangho ko ragadte hue vo apne hath meri rand behan ki skirt me le gya or uske hips ko dabane laga. Uski inn harkaton se meri behan bhi garam ho rahi thi usne bhi ab ankur ko kiss karte hue uski shirt utar di.सेक्सी में नंगी

वो शाम को वापस जाने वाले थे। मधु के लिए कुछ दवाइयां भी खरीदनी थी और राशन भी लेना था इसलिए मधुर ने अंगूर को भी हमारे साथ कार में भेज दिया। उन दोनों को गाड़ी में बैठाने के बाद जब मैं स्टेशन से बाहर आया तो अंगूर बेसब्री से कार में बैठी मेरा इंतज़ार कर रही थी। फिर मैंने पीछे हाथ ले जाकर उसकी ब्रा उतार दी और उसके दोनों कबूतर जो काफ़ी देर से क़ैद में फड़फड़ा रहे थे, एकदम से उछल कर बाहर आ गए।

उस वक्त ऋतु का हाथ धीरे से फिसल कर मेरे लंड पर पहुंचा, मेरे मोटे लंड को हाथ में भर कर दबा दिया, चुम्बन छोड़ कर बोली- देवर जी, कहाँ छुपा कर रखा था? ऐसे खजाने को छुपा कर रखना पाप है, मैं तुम्हें माफ़ नहीं करुँगी।

अच्छा अभी तो मुझे रिलेक्स कर दो अब निन्द नहीं आयेगी इस के बगैर.. और वों फिर से उँगली अन्दर बाहर करने लगा और मूवी के स्क्रीन में उन दोनों कि पोसितिओन बादल चुकी थी अब लड़की doggi style में थी और लड़का पीछे से झटके लगा रहा था..,सेक्स बीपी बीपी सेक्स तो दो लगा देते हैं। मैंने कहा। वह कुछ सोच रही थी। उसके मन की उलझन मैं अच्छी तरह जानता था। ओह… अभी कौन सी नींद आ रही है, चलो छोड़ो कोई और बात करो। मैंने कहा।

News