सेक्सी पिक्चर ब्लू इंग्लिश

लंड चूत में लंड

लंड चूत में लंड, सुधरी नही...म्सी ,सब दिन भर चूत मरवा-मरवा के थक कर सो गयी थी और जब रात के 1 बजे हम दोनो ने उनका दरवाजा खटखटाया तो सालियो ने माँ-बहन की गालियाँ देते हुए हमे वहाँ से भगा दिया... सुलभ सच कह रहा था, यदि हम उस वक़्त सी प्रोग्रामिंग का वीडियो डाउनलोड करते तो कुच्छ ना कुच्छ तो भेजे मे घुसता ही...लेकिन हमने ऐसा नही किया,हम चारो ने ऐसा नही किया....

फिर कुछ रुक कर, कुछ खाने को है? बहुत भूख लग रही है.. और पानी भी चाहिए.. मैं तो कम से कम एक लीटर पानी पी सकता हूँ अभी! कमाल है..अबकी बार अरुण ने तीसरा पीस उठाया और कहामैं क्या बोलता हूँ कि अपुन दोनो ही मिलकर ये डिब्बा खाली कर देते है,वरना बड़े भैया के जाते ही लौन्डे टूट पड़ेंगे और हम दोनो घंटा हिलाते रह जाएँगे

मेरे कहने पर जब अरुण ने बाइक सड़क के किनारे रोक दी तब मैं बोलाअपन तीनो बाहर से ही दारू पीकर चलते है, मस्त नशे मे टन होकर जाएँगे.... लंड चूत में लंड गौतम अब भी टूर्नमेंट के चलते बाहर था और मैं ,अरुण के साथ कॅंटीन मे बैठा हुआ था....अरुण अपनी वाली को लाइन दे रहा था और मैं अपनी वाली को...फरक सिर्फ़ इतना सा था कि अरुण वाली अरुण को मस्त रेस्पोन्स दे रही थी और मेरी वाली मुझे देख तक नही रही थी.....

അമ്മയുടെ കുണ്ടിയില്

  1. मिस्टर. अरमान, मुझे तुमसे कुछ बात करनी........ बोलते हुए उसने अपना चेहरा दूसरी तरफ घुमा लिया, और सिसक पड़ी....
  2. निशा, आक्च्युयली अभी कुछ काम आ गया है, शाम को बात करता हूँ...बोलते हुए मैने तुरंत मोबाइल की रेड बटन दबा दी..... வீடியோஸ் வீடியோ
  3. ये बुरमरी के, तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई,हमारे सामने ज़ुबान खोलने की, भाग जाओ यहाँ से वरना हम तुम्हे मौत की सज़ा देंगे...भू एकदम राजा वाली स्टाइल मे बोला.... असलियत मे मैं और मेरी टीम ऐसा कुच्छ भी नही करने वाली थी ,ये तो सिर्फ़ हमारा मॅच जीतने का प्लान था,जो मैने अभी-अभी बनाया था...जिससे सामने वाली टीम के लौन्डे हमारी तरफ डर के मारे ना आ सके....लेकिन मॅच के शुरुआती हालत देखकर मुझे अंदाज़ा हो चला था कि आज तो यहाँ वर्ल्ड वॉर ३र्ड होने वाला है.
  4. लंड चूत में लंड...अच्छी चल रही है.. अब मैं उसको क्या बताऊँ कि पढ़ाई लिखाई के साथ साथ और भी बहुत कुछ चल रहा है, और वो भी बहुत ही अच्छे से! दिमाग़ का इलाज करवा,आज तू कुच्छ ज़्यादा ही सोच रही है और अब चल रात होने वाली है...कहीं ऐसा ना हो कि अंकल जी हम दोनो को रास लीला करते हुए देख ले और मेरी खटिया खड़ी कर दे...
  5. तू रुक और देखता जा...अरुण की उंगलिया एक बार फिर तेज़ी से मोबाइल के बटन्स पर घूमने लगी और उसने विभा को रिप्लाइ किया... मेरा अनुमान था कि फ़ौजी हमे गुड वर्क कहकर यहाँ से जाने देगा,लेकिन हमारे जॉब की डाइयामीटर को अपनी जर्जर स्केल से नापते हुए वो ना जाने कहाँ खो गया..वो कभी बाहर जाकर डाइयामीटर चेक करता तो कभी वहाँ लगे बल्ब की रोशनी मे चेक करता....और 15-20 मिनिट्स की कशमकश के बाद उसने अरुण को घूरा...

இங்கிலீஷ் செக்ஸ்படம் வீடியோ படம்

मैंने अपने लिंग को अंदर की तरफ धकेलते हुये उसको चूमा। जैसे ही सुमन ने मेरे लिंग को अपनी योनि की गहराइयों में जाते हुये महसूस किया, वो बोली, अब आप जल्दी से कर दीजिए सब कुछ! मैं कैसे भी रोऊँ, आप रुकियेगा नहीं!

कल एश से ये ज़रूर पुछुन्गा की उसकी ,दिव्या से लड़ाई क्यूँ हुई थी, फिर देखता हूँ कि वो क्या वजह बताती है...एसस्स...एसस्स...कल्लू तेरी *** की चूत, तेरी *** का भोसड़ा... चलिए मैं आपको अंदर तक छोड़ देता हूँ,...उस पहलवान ने मुझे निशा से जैसे ही दूर किया ,निशा चिल्ला उठीतुम्हे समझ नही आ रहा है, मैने बोला ना कि ये मेरे साथ है...

लंड चूत में लंड,विभा गुस्से से मेरी तरफ देखने लगी और विभा को देखकर मैने अंदाज़ा लगाया कि वो मुझे अंदर ही अंदर गालियाँ दे रही है.....

मैं,अरमान भाई की टीम मे रहूँगा...पांडे जी को जब अरुण ने अपनी टीम मे लिया तो राजश्री पांडे एक दम से चिल्ला उठा....

मैंने कई दिनों से खुद को जब्त किया हुआ था.. उस एक वाक्य ने न जाने कैसे मेरे सब्र के बाँध को ढहा दिया। मैंने चिड़चिड़े ढंग से उसको जवाब दिया, अपने काम से काम रखो! मुझसे चिपकने की कोई ज़रुरत नहीं!देह व्यापार का धंधा

अरे अमन जी आप तो शर्मिंदा कर रहे हैं , आप बैठिए आराम कीजिए आपके लिए मैं हल्दी वाला गर्म दूध ले आती हूँ छिः! कैसे कैसे बोल रहे हो! गन्दी गन्दी बातें! आअऊऊऊ! आप न, बड़े ‘वो’ हो.. अभी, जब आपके हाथ पांव ठीक से नहीं चल रहे हैं, तब मेरी ऐसी हालत करते हैं.. जब सब ठीक हो जाएगा तो...

मुझे उस वक़्त पता नही क्या हो गया था जो मैं वैसी अजीब-हरक़ते करने लगा था....मेरे ऐसे बिहेवियर से सब हैरान थे...कुच्छ ने तो पागल ,सटका तक कह डाला था और ये सवाल मैं आज भी खुद से पुछ्ता हूँ कि क्या वाकई मैं उस दिन पोलीस स्टेशन मे सटक गया था या वो सब सिर्फ़ मेरा घमंड , मेरा अकड़ ,मेरा आटिट्यूड था....

गान्ड मे लात मारकर बैठाओ इसको...पहले अरुण और फिर उसके सुर मे सुर मिलाता हुआ नवीन बोला, मैं भी जोश मे आ गया और बोला,लंड चूत में लंड तू...मुझपर भडास निकालेगा.जबारपेली हँसते हुए मैं बोलाचल बे ,तुझ जैसे हज़ार भी आ जाए तो मेरा कुच्छ नही उखाड़ नही सकते...और मेरा मूड कही घूम गया तो यही पर लिटा-लिटा कर मारूँगा,इसलिए थोड़ी देर के लिए चल फुट ले...

News