महाराष्ट्र के बीएफ

झिंग झिंग झिंगाट सॉन्ग

झिंग झिंग झिंगाट सॉन्ग, उफफफफफफफफफफफ्फ़ कियआआआआ गरम और तंग चूत है तुम्हारीईईईईईईईईईईईईईईईईईई इतने महीनो बाद मेरे लौड़े को भी जब एक गरम चूत का स्वाद मिला तो मज़े के मारे मैं भी सिसका उठा | है तभी डिंपल एक बार घूम कर उसे देखती है और उसे अपने मोटे-मोटे चूतड़ देखते हुए पाती है तो एक दम से रुक

मैने ज्यों ही अपने हाथों से अपनी फुददी का लिप्स को चौड़ा करते हुए विनोद के लंड के लिए अपनी फुद्दि का मुँह मज़ीद खोला. तो इस के साथ ही विनोद ने मेरी चूत के मुँह पर फँसे हुए अपने लंड को खैंच कर बाहर निकला. और फिर अपने लंड को एक दम तेज़ी के साथ मेरी फुद्दि में डाल दिया. प्रिया के चेहरे पर उत्तेजना के भाव दिख रहे थे साथ ही उसकी आँखों में एक अजीब सा डर नज़र आ रहा था। वो जानती थी कि अब असली काम होने वाला है और मेरा लम्बा चौड़ा लंड उसकी चूत की धज्जियाँ उड़ाने वाला था। प्रिया मेरी तरफ ऐसे देख रही थी मानो वो यह कहना चाह रही हो कि जो भी करना धीरे करना।

इस के साथ साथ कमरे के एक कोने में रखे हुए बेड पर भी गुलाब के फूलों की पत्तियाँ ही पत्तियाँ बिखरी पड़ी थी. झिंग झिंग झिंगाट सॉन्ग ये ख्वाब आते ही मेरी आँखे नींद से एक दम खुद ब खुद ही खुल गई. तो मुझे अहसास हुआ कि जो कुछ में नींद की हालत में महसूस कर रही थी.वो सिर्फ़ एक सपना नही था.

ब्लू पिक्चर दीजिए तो

  1. ठीक है तो मेरे लिए 36ड्ड का ब्रेज़र और मीडियम साइज़ की पैंटी खरीद लेना मेरे होने वाले सरताज विनोद को अपने मोटे मम्मे और चुतड़ों का साइज़ बताने के बाद मैने फॉरन ही फोन बंद कर दिया.
  2. ओह अपनी बहन की कुंवारी चूत पर मेरे लौड़े की रगड़ से हम दोनो बहन भाई के मुँह से लज़्ज़त भरी सिसकी फूट पड़ी | पंजाबी में सेक्सी बीएफ
  3. ज़ाकिया ने संध्या से बातों के दौरान अपने जिस्म पर पड़ने वाली मेरी गरम नजरों को महसूस तो कर लिया था | मगर उसने अपने चेहरे से मुझे यह महसूस नही होने दिया कि मेरा यूँ ताड़ना उसे अच्छा लगा है या नही | बिल्कुल इस तरह विनोद के अनकट लंड के इस ज़ोर दार झटके ने मेरी चूत की भी इस वक्त कुछ ऐसी ही हालत की थी. कि अपनी फुद्दि में विनोद के लंड को एक झटके के साथ जाते हुए महसूस कर के मेरा पूरा वजूद ही हिल गया. और इस के साथ ही मेरे जेहन में ये ख्याल आया,
  4. झिंग झिंग झिंगाट सॉन्ग...अजी राह तो हम कब से आपकी देख रहे हैं… इतना थक गया हूँ कि उठा भी नहीं जा रहा है, सोचा कि आप आएँगी और मुझे उठा कर अपने हाथों से नहलायेंगी ! मैंने शरारत भरी नज़रों से उसकी तरफ देखते हुए कहा। उस फार्म में कुल 6 आदमी थे.. जो वहाँ की साफ-सफ़ाई खाने का बंदोबस्त आदि करते थे। वो सब इनके खास नौकर थे अक्सर जय वहाँ लड़कियों के साथ आता और रंगरेलियाँ मनाता था.. जिसकी उनको आदत थी।
  5. उफ्फ्फ…दुखता है न..। मत दबाओ न जान..। पहले ही तुम्हारे लंड ने उसकी हालत ख़राब कर दी है…अब जाने दो। रिंकी ने तड़प कर मेरा हाथ हटाया और मुझे प्यार से धकेल कर नीचे भेज दिया। बिल्कुल कुछ ऐसी ही हालत अब विनोद के मोटे ताज़े सख़्त और जवान लंड को अपनी चूत में पूरा लेने के बाद हो रही थी कि अब विनोद के इन लंबे और मोटे लंड से मुझे अपनी चूत भरी भरी और मुकमल सी महसूस हो रही थी.

एक्स एक्स बीएफ एचडी वीडियो

विनोद और मेरे होंठों का आपस में एक बार फिर मिलाप हुआ. तो मेरे रस भरे लबों से मेरे होंठों का रस चाटने के साथ साथ विनोद के हाथ मेरी गुदाज और भारी चुचियों पर फिसलते हुए मेरी जवानी का मज़ा लेने लगे.

तुम्हारे बिना नही रह सकता हू, और बस यही सोचते-सोचते कि कैसे अपनी दीदी को अपने सीने से लगा कर जी भर कर प्यार विनोद के इस अचानक और जबर्जस्त झटके से मेरी चूत में होने वाले दर्द की बदोलत मुझे ऐसा महसूस हुआ कि जेसे दो साल से शादी शुदा होने के बावजूद में अब तक कुँवारी थी. और आज मेरी चूत की पहली चुदाई हो रही हो.

झिंग झिंग झिंगाट सॉन्ग,तो मुझे पता चला कि रात भर की चुदाई के दौरान विनोद ने अपने लंड का गरम वीर्य मेरे चेहरे, मम्मो और चूत समेत जहाँ जहाँ गिराया है.

अपनी बहन की आँखों का पीछा करते हुए मेरी अपनी आँखें भी कमरे में बने हुए उस रोशनदान पर जा अटकीं | जिसकी खिड़की ट्यूबवेल की छत पर खुलती थी |

प्रिया ने अपने कम्बल से झांक कर मुझे देख कर आँख मारी और अपने होंठों को गोल करके मेरी ओर चुम्बन उछाल दिया… और धीरे से गुड नाईट बोलकर सो गई…translate पिक्चर from hindi

साजन- कुछ मत कहना.. बस उसके सामने चले जाना.. अगर वो बात करे तो ठीक.. नहीं उसको देख कर आगे निकल जाना.. समझे.. मेरी चूत की इस हालत की वजह सिर्फ़ विनोद के लंड का मोटा और लंबा होना ही नही, बल्कि असल में विनोद के अनकट लंड का टोपा ही इतना छोड़ा है, कि जिस ने तुम्हारी शरीफ बीवी की तंग चूत के मुँह को पूरा फाड़ कर रख दिया है यासिर यासिर की बात का जवाब देते हुए मैने अपने शौहर की तरफ देखा.

इसीलिए इधर मैने अपनी धुनि पर चलती हुई विनोद की नोकेलि ज़ुबान से बे हाल हो कर जोश और मज़े में आते हुए विनोद के सर पर अपने हाथ कसे. तो नीचे से मेरी फुद्दि एक बार फिर अपना पानी छोड़ने लगी.

रश्मि सारी बात बड़े गौर से सुन रही थी, उसे पता भी नहीं चला कि कब काजल ने उसको आवाज़ दी, वो तो बस आँखें गड़ाए काजल को देख रही थी।,झिंग झिंग झिंगाट सॉन्ग यह बात सोचते ही मैंने अपने दिल में इस बात पर जल्द अमल करने का इरादा किया और फिर अपनी आँखें बंद करके सो गया |

News